पत्नी अभी भी कर रही है शहीद घोषित पति का इंतज़ार

0 0
Read Time:2 Minute, 2 Second

उत्तराखंड के लिए एक दुखद खबर सामने आ रही है। जिसमें 11वीं गढ़वाल राइफल के हवलदार राजेन्द्र सिंह नेगी 8 जनवरी 2020 को ऑन डयूटी से लापता हो गए, जिसमें भारतीय सेना ने उन्हें लड़ाई के दौरान हताहत मानते हुए शहीद घोषित कर दिया। जिसके बाद भारतीय सेना ने शहीद की पत्नी को एक पत्र दिया है जिसमें शहीद को ऑन डयूटी लड़ाई के दौरान शहीद होने की बात लिखी गई है। सेना ने हवलदार राजेन्द्र सिंह नेगी को शहीद का दर्जा दे दिया है।

उस फौजी की पत्नी पर क्या बीत रही होगी जो फरवरी से मांग में सिंदूर लगाए, गले में मंगलसूत्र, हाथों में चूडियां और माथे पर लाल बिन्दी लगाए अपने पति के लौटने की बेसब्री से इंतजार कर रही थी। क्योंकि उसको एक आस थी कि उसका पति एक दिन अपने परिवार के पास लौटकर जरूर आएगा। लेकिन क्या होगा उनकी पत्नी और बच्चों का जो घर की देहली पर इस उम्मीद में टकटकी लगाए बैठे है कि आज नही तो कल हमारा इंतजार खत्म हो जाएगा।

अपको बता दें कि 8 जनवरी को राजेन्द्र सिंह नेगी पाक सीमा पर गुलमर्ग में तैनात थे। सेना ने बताया कि डयूटी के दौरान जवान का पैर फिसल गया और वह पाक सीमा की ओर जा गिरे और लापता हो गए। सेना ने इस बात का दावा किया कि उन्होंने हवलदार राजेन्द्र सिंह नेगी को ढूंढा लेकिन वो नहीें मिले तो सेना ने अंत में 21 मई को 2020 को बैटल कैजुअल्टी मान लिया।

About Post Author

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Posts

Read also x