महाविद्यालय में एड्स दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित

महाविद्यालय में एड्स दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित
0 0
Read Time:6 Minute, 32 Second

रूद्रप्रयाग। राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय अगस्त्यमुनि में विश्व एड्स दिवस के उपलक्ष्य में प्राचार्य प्रो० पुष्पा नेगी के दिशा-निर्देशन में रेड क्रॉस विंग, राष्ट्रीय सेवा योजना, नमामि गंगे तथा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग रुद्रप्रयाग के संयुक्त तत्त्वावधान में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए।
कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि डॉ० हरीशचंद्र मार्तोलिया, मुख्य चिकित्साधिकारी रुद्रप्रयाग, महाविद्यालय की प्राचार्य प्रो. पुष्पा नेगी,डॉ० अक्षिता ममगाईं, प्रभारी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अगस्त्यमुनि, मुकेश बगवाड़ी, जिला कार्यक्रम समन्वयक (राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम) रुद्रप्रयाग द्वारा दीप प्रज्वलन के माध्यम से हुआ। इस दौरान प्राचार्य ने अपने उद्बोधन में कहा कि यदि हम एड्स जैसी गंभीर एवं संवेदनशील बीमारी के प्रति जागरूक और सजग रहेंगे तो इस बीमारी पर काफी हद तक नियंत्रण किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जागरूकता ही सबसे बड़ा हथियार है। किसी भी बीमारी की पूर्ण जानकारी के अभाव में अनजाने में कोई भी इसका शिकार हो सकता है। उन्होंने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने की बात कही। प्राचार्य ने कहा कि जब हम शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देंगे तो एक सशक्त एवं उन्नतिशील समाज का निर्माण कर पाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि योग को दैनिक जीवन में अपनाने से समस्त शारीरिक एवं मानसिक संतापों पर नियंत्रण पाया जा सकता है। प्राचार्य ने अपने उद्बोधन में कहा कि शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य, रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए योग अत्यंत आवश्यक है। मुख्य अतिथि चिकित्साधिकारी रुद्रप्रयाग ने एड्स के कारण एवं लक्षण को भली-भांति समझाकर इससे बचाव के सभी संभावित उपायों को विस्तार से बताया। असुरक्षित यौन संबंधों के तीन बिंदुओं- हाई रिस्क पापुलेशन, ब्रिज पापुलेशन और जनरल पापुलेशन पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने बताया कि नजदीकी जिला चिकित्सालय में एड्स का नि:शुल्क परीक्षण करके इसकी दवाइयां भी रोगी को नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाती हैं। इसके पश्चात राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा एड्स: कारण, लक्षण एवं निवारण विषय पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें छात्र-छात्राओं ने इस गंभीर विषय पर अपने विचार प्रस्तुत करके एड्स के प्रति जागरूकता का संदेश दिया। इस भाषण प्रतियोगिता में विक्रांत चौधरी एम.ए. तृतीय सेमेस्टर ने प्रथम स्थान, रश्मि एम.ए. तृतीय सेमेस्टर ने द्वितीय स्थान एवं हिमानी फस्र्वाण बी.एस.सी. प्रथम सेमेस्टर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। डॉ० शशिबाला पंवार, डॉ० गिरिजा प्रसाद रतूड़ी एवं डॉ० प्रकाश फोन्दनी ने इस प्रतियोगिता में निर्णायक मंडल की भूमिका का निर्वहन किया। इसके पश्चात रेडक्रॉस इकाई द्वारा एड्स: जागरूकता एवं रोकथाम विषय पर पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें किरन बी.एस.सी. प्रथम सेमेस्टर ने प्रथम स्थान, तेजस्वी बिष्ट बी.ए. प्रथम सेमेस्टर ने द्वितीय स्थान तथा प्रेरणा नौटियाल बी.ए. प्रथम सेमेस्टर एवं अभिषेक सिंह बी.एड. प्रथम वर्ष ने संयुक्त रूप से तृतीय स्थान प्राप्त किया। डॉ० सीताराम नैथानी, डॉ० नवीन चंद्र खंडूरी, डॉ० ममता भट्ट एवं डॉ० प्रकाश फोन्दनी ने इस प्रतियोगिता में निर्णायक मंडल की भूमिका निभाई।
इस मौके पर डॉ० निधि छाबड़ा, वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी राष्ट्रीय सेवा योजना, नमामि गंगे समिति के सदस्य- डॉ० ममता शर्मा, डॉ० आबिदा, डॉ० शशिबाला पंवार के साथ ही महाविद्यालय के अन्य प्राध्यापक डॉ० पूनम भूषण, डॉ० विष्णु कुमार शर्मा, डॉ० सुधीर पेटवाल, डॉ० वीरेंद्र प्रसाद, डॉ० राजेश कुमार, डॉ० चंद्रकला नेगी, डॉ० दीप्ति राणा, डॉ० अनुज कुमार, डॉ० तनुजा मौर्य, डॉ० कनिका बड़वाल, डॉ० दयाधर सेमवाल, डॉ० रुचिका कटियार, डॉ० दीपाली रतूड़ी, डॉ० दुर्गेश नौटियाल एवं डॉ० सुनीता मिश्रा सहित कर्मचारी वर्ग से श्री ताहिर अहमद, श्री संदीप राणा, श्रीमती विनीता रौतेला, श्रीमती पूजा नेगी एवं महाविद्यालय के अनेक छात्र-छात्राएँ उपस्थित रहे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
WhatsApp Image 2022-11-11 at 11.45.24 AM

admin

Related Posts

Read also x