फतेहपुर : जोरों से चला आ रहा था विदेश भिजवाने का फर्जी धंधा, अब तक कई युवा हो चुके हैं शिकार

Uncategorised
0 0
Read Time:4 Minute, 5 Second

विनय कुमार

फतेहपुर : बहला-फुसलाकर और विदेश में अच्छी कमाई का लालच देकर जनपद में लोगों को विदेश भेजने का धंधा अच्छे से फल फूल रहा था लेकिन प्रशासन ने फर्जी पासपोर्ट गिरोह को पकड़कर उनकी कमर तोड़ दी । लेकिन उन लोगों का क्या होगा जिनके पैसे भी ले लिए गए और आज तक न ही उनको वीजा मिला न ही पासपोर्ट उनसे केवल पैसे की ठगाही की गई और उसके बाद से अब तक पैसा मांगने पर बेवकूफ बनाया जा रहा है।

 

ताजा मामला फतेहपुर जनपद के बिलंदपुर गांव का है जहां के रहने वाले भोला प्रसाद पुत्र शिवनंदन कंप्यूटर की दुकान रखकर किसी तरह से अपना जीवन यापन कर रहा था लेकिन उसकी दुकान पर शिवम विश्वकर्मा पुत्र कपिल निवासी पत्थरकटा चौराहा और नजीम निवासी गौती फतेहपुर का आना जाना हो गया , जिन्होंने बहला-फुसलाकर उसे विदेश भेजने की बात कही और बताया कि हम लड़कों को सऊदी अरब व सिंगापुर भिजवाते हैं तथा बीजा आदि मंगवाने का काम करते हैं लड़का उनके झांसे में आ गया और उन्होंने उसे बताया कि हम तुम्हारा वीजा पास करा देंगे और वहां पर तुम्हें रोजगार भी दिला देंगे जिससे तुम्हारी गरीबी दूर हो जाएगी।

 

विश्वास में आकर पीड़ित युवक के साथ उसके ही गांव के अन्य तीन व्यक्तियों से पैसा लेकर सिंगापुर भिजवाने की बात कही प्रार्थी के साथ राजेश पुत्र बरजोड, संदीप पुत्र सुरेश ,प्रद्युम्न पुत्र सौकीलाल निवासी बेनी हरसिंहपुर थाना मलवां जिला फतेहपुर को विदेश भेजने की बात हुई और सभी से कुल मिलाकर दो लाख साठ हजार रुपये सिंगापुर भिजवाने के नाम पर लिए ले लिया गया,और कह दिया गया कि 15 दिन के अंदर हम तुमको विदेश भेज देंगे उसके बाद से आज तक किसी तरह की कोई कार्यवाही नहीं हुई।

 

प्रार्थी ने इसकी शिकायत थाना कोतवाली फतेहपुर में भी की लेकिन कार्यवाही के नाम पर केवल ढकोसला ही मिलता रहा और अब दिन ऐसे आ गए हैं की पीड़ित को गालियों से नवाजा जा रहा है और उस ठग का साफ तौर पर कहना है कि पैसा मांगोगे तो तुम्हें जान से मरवा देंगे प्रार्थी डरावा व सहमा है और प्रशासन से सुरक्षा की मांग कर रहा है और पैसा दिलाने की बात भी कह रहा है लेकिन किसी भी तरह की कोई कार्यवाही नहीं हो रही है।

अब सवाल यह उठता है कि अगर प्रशासन ऐसे लोगों के ऊपर कार्यवाही नहीं करेगा तो क्या प्रशासन गरीब का साथ देने से कतरा रहा है या गरीब का पैसा पैसा नहीं होता।

About Post Author

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Posts

Read also x