WhatsApp Image 2022-11-11 at 11.45.24 AM

अभिमन्यु वध : छल से किया कौरवों ने अर्जुन पुत्र अभिमन्यु का वध

0 0
Read Time:3 Minute, 17 Second

अर्जुन पुत्र अभिमन्यु जो मात्र 16 वर्ष का ही था लेकिन युद्ध कौशल में अपने पिता के समान था, अभिमन्यु का बचपन अपने मामा श्री कृष्णा की द्वारका में ही बीता, वही उन्होंने अपनी अस्त्र शस्त्र विद्या ग्रहण की, अभिमन्यु ने माता पिता के गर्भ में रहकर ही चक्रव्यूह भेदना सीख लिया था लेकिन चक्रव्यूह से बाहर निकलना इसलिए नहीं सीख पाया क्योंकि जब अर्जुन सुमद्रा को चक्रव्यूह के बारे में जानकारी दे रहे थे तो तब सुमद्रा अभिमन्यु की माँ कुछ समय पश्चात सो गयी थी कुरुक्षेत्र के युद्ध में कौरवों की योजना थी कि वो अर्जुन को युद्ध में उलझाकर चारो भाइयो से दूर ले जायेंगे और युधिष्ठर को बंदी बनाकर युद्ध जीत लेंगे । युद्ध के तेहरवें दिन सेना की एक टुकड़ी अर्जुन से युद्ध करते हुए उसे रणभूमि से दूर ले गयी, वही गुरु द्रोण ने युधिष्ठर को बंदी बनाकर चक्रव्यूह की रचना की और पांडवो में सिर्फ अर्जुन को ही पता था की चक्रव्यूह को कैसे तोडना है।

अर्जुन के दूर जाते ही गुरु द्रोण ने पांडवो को ललकारते हुए कहा की युद्ध लड़ो या हार मान लो उस समय युधिष्ठर के सामने केवल अभिमन्यु ही था और अभिमन्यु ने कहा काका श्री मुझे चक्रव्यूह तोड़ने और युद्ध करने का आशीर्वाद दीजिये युधिष्ठर ने अभिमन्यु को मना कर दिया लेकिन अभिमन्यु नहीं माना और युधिष्ठर ने अभिमन्यु की बात मान ली युद्ध में सबसे आगे अभिमन्यु था बाकि सब उसके पीछे थे। अभिमन्यु ने जैसे ही चक्रव्यूह में प्रवेश किया सिन्धु नरेश जयद्रथ ने प्रवेश मार्ग पर ही सभी पांडवो को रोक लिया चक्रव्यूह में केवल अभिमन्यु अकेला पड़ गया। अकेला होने पर भी वह वीरता से लड़ा और उसने अकेले ही कौरव सेना के बड़े बड़े योद्धाओ को परास्त किया। युद्ध के सारे नियमो को ताक पर रखकर महारथियों ने अभिमन्यु पर एक साथ आक्रमण करना प्रारम्भ कर दिया, कर्ण ने बाण चलाकर अभिमन्यु का धनुष और रथ का पहिया तोड़ दिया, जिससे वह भूमि पर गिर गया। सभी ने घेरकर अभिमन्यु को मार दिया। अभिमन्यु की मृत्यु में सबसे बड़ा दोष जयद्रथ का था इसलिए अर्जुन ने प्रतिज्ञा ली की वह अगले दिन के युद्ध में सूर्यास्त से पहले जयद्रथ का वध करेगा अन्यथा अग्नि समाधि ले लेगा।

About Post Author

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
WhatsApp Image 2022-11-11 at 11.45.24 AM

Related Posts

Read also x