उद्धव खेमा पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, शिंदे खेमे की अर्जी पर चुनाव आयोग की कार्यवाही पर रोक की मांग

उद्धव खेमा पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, शिंदे खेमे की अर्जी पर चुनाव आयोग की कार्यवाही पर रोक की मांग
0 0
Read Time:3 Minute, 40 Second

उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले शिवसेना खेमे ने एकनाथ शिंदे खेमे को ‘असली’ शिवसेना को मान्यता देने की याचिका पर भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) की कार्यवाही पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। शिवसेना के महासचिव सुभाष देसाई द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि प्रतिवादियों ने कथित तौर पर चुनाव चिह्न् (आरक्षण और आवंटन) आदेश, 1968 (प्रतीक आदेश) के पैरा 15 के तहत कार्यवाही शुरू कर दी है, जिसमें अन्य बातों के साथ-साथ ‘असली शिवसेना’ के रूप में पहचाने जाने की मांग की गई है। वे शिवसेना को आवंटित चुनाव चिह्न्  ‘धनुष और तीर’ का उपयोग करने के अधिकार का दावा कर रहे हैं।
याचिका में कहा गया है कि 20 जुलाई 2022 को अध्यक्ष की ओर से पेश वकील ने शीर्ष अदालत को आश्वासन दिया कि दसवीं अनुसूची के तहत अयोग्यता के मामले में आगे कोई कार्यवाही नहीं की जाएगी। उद्धव खेमे ने शीर्ष अदालत से बागी विधायकों की अयोग्यता पर शीर्ष अदालत के अंतिम फैसले तक 22 जुलाई को चुनाव आयोग द्वारा शुरू की गई कार्यवाही पर रोक लगाने का आग्रह किया।
याचिका में कहा गया है कि शीर्ष अदालत के समक्ष कार्यवाही की पृष्ठभूमि के खिलाफ चुनाव आयोग से मामले में आगे नहीं बढऩे का अनुरोध किया गया है। याचिका में कहा गया है कि चुनाव आयोग को यह भी सूचित किया गया था कि चूंकि विधानसभा के सदस्यों के रूप में उसके समक्ष याचिका करने वाले व्यक्तियों की स्थिति इस समय अनिश्चित है और यह मुद्दा शीर्ष अदालत के समक्ष निर्णय के लिए लंबित है, इसलिए इन व्यक्तियों को विधायक नहीं माना जा सकता। शिवसेना और उनके दावे या हलफनामों पर भरोसा नहीं किया जा सकता, और इसलिए चुनाव आयोग को इस स्तर पर मामले को आगे नहीं बढ़ाना चाहिए।
याचिका में कहा गया है, मामले को तेज न करने के अनुरोध के बावजूद चुनाव आयोग ने प्रतिवादी संख्या 4 की याचिका पर प्रतीक आदेश के तहत कार्यवाही शुरू करने का निर्णय लिया है और इसमें उद्धव ठाकरे और प्रतिवादी संख्या 4 को नोटिस जारी किया है।
याचिका में कहा गया है कि शीर्ष अदालत के समक्ष मामला लंबित होने के बावजूद प्रतिवादी हताशा के कृत्यों में और किसी तरह बहुमत जुटाने करने के लिए अवैध रूप से संख्याओं को जोडऩे और कृत्रिम बहुमत बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसमें कहा गया है, यह प्रस्तुत किया गया है कि निजी प्रतिवादी 4 शिवसेना के संविधान के विपरीत कई अवैध गतिविधियों में लिप्त रहे हैं..।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x