स्मृति ईरानी की बेटी फर्जी लाइसेंस पर शराब परोस रही है : कांग्रेस

स्मृति ईरानी की बेटी फर्जी लाइसेंस पर शराब परोस रही है : कांग्रेस
0 0
Read Time:5 Minute, 53 Second

पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश और कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने  स्मृति ईरानी के परिवार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कहां की गोवा में उनकी बेटी द्वारा चलाए जा रहे हैं रेस्टोरेंट पर शराब परोसने के लिए फर्जी लाइसेंस जारी करवाने का मामला है और यह कोई सूत्रों के हवाले से अथवा एजेंसियों द्वारा राजनीति प्रतिशोध लेने के लिए लगाया गया आरोप नहीं है बल्कि आरटीआई से खुलासा हुआ है। कांग्रेस नेता ने कहा कि आरटीआई के हिसाब से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की बेटी जोइश ईरानी ने अपने  ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’के लिए फज़ऱ्ी दस्तावेज़ देकर बार लाइसेंस जारी करवाए। जयराम रमेश ने कहा कि 22 जून 2022 को लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए जिस एंथनी डीगामा के नाम से आवेदन किया गया उनकी पिछले साल मई में ही मौत हो चुकी है। एंथनी के आधार कार्ड से पता चला है कि वे मुंबई के विले पार्ले के निवासी थे। आरटीआई लगाने वाले वकील को इनका मृत्यु प्रमाण पत्र भी मिला है। जयराम रमेश ने कहा कि यह मामला केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से संबंधित है  इसलिए इस मामले में तमाम नियम कानून भी ताक पर रख दिए गए। गोवा की आबकारी नीति के मुताबिक राज्य में केवल मौजूदा रेस्टोरेंट को ही बार लाइसेंस मिल सकता है, वो भी एक रेस्टोरेंट को एक बार में एक। लेकिन पिछले साल फरवरी में स्मृति ईरानी जी के पारिवारिक रेस्टोरेंट को विदेशी शराब की खुदरा बिक्री के साथ ही भारत में निर्मित विदेशी और देशी शराब की खुदरा बिक्री के लिए भी लाइसेंस जारी कर दिए गए। दस्तावेजों से ये भी पता चला है कि बार लाइसेंस के लिए आवश्यक रेस्तरां लाइसेंस के बिना ही बार लाइसेंस जारी किए गए। कांग्रेस नेता ने कहा कि फर्जीवाड़े के खुलासे के कुछ ही घंटे बाद बाद कल शाम भाजपा सरकार ने एक्साइज कमिश्नर नारायण गड को परेशान करने का खेल शुरू कर दिया। जिन्होंने उत्तर गोवा के असगाओ में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी के परिवार द्वारा चलाए जा रहे इस अवैध बार और रेस्तरां को कारण बताओ नोटिस भेजा था।जयराम रमेश ने कहा कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी कल तक सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लेकर तरह-तरह के सवाल पूछ रही थी तो आज वह अपने पारिवारिक भ्रष्टाचार पर चुप क्यों है। जयराम रमेश ने कहा कि सत्ता के बल के द्वारा इस फर्जीवाड़े को छिपाने का खेल क्यों चल रहा है इसका जवाब भाजपा और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को जरूर देना चाहिए। क्योंकि कानून के उल्लंघन करने वालों को ये एहसास होना चाहिए कि कानून के लंबे हाथ धीरे-धीरे ही सही लेकिन भ्रष्टाचार करने वालों तक पहुंचते ज़रूर हैं। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हम लोग मांग करते हैं कि तुरंत प्रभाव से स्मृति ईरानी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाए। क्योंकि 12 दिसम्बर, 2004 को, सूरत में, इन्हीं मंत्री ने गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री का इस्तीफा मांगा था और आज हम ये मांग कर रहे हैं कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्मृति ज़ूबिन ईरानी का इस्ताफी लें। ये कोई तू-तू, मैं-मैं का सवाल नहीं है। ये बात सही है कि स्मृति ज़ूबिन ईरानी जी हमेशा राहुल गांधी जी और सोनिया गांधी जी को लेकर कुछ न कुछ बोलती रहती हैं, पर ये बेबुनियादी बात हैं, हम तो कागजी बात कर रहे हैं। हम आरटीआई के माध्यम से जो जानकारी हासिल की गई है, उसी के आधार पर… हम आरोप नहीं लगा रहे हैं, जो आरटीआई से जानकारी आई है, हम आपके समक्ष, जनता के समक्ष रख रहे हैं, तो इसमें दोनों की तुलना मत कीजिए। नेटा डिसूजा ने जोड़ा कि जो आरटीआई एक्टिविस्ट हैं, एडवोकेट रोड्रिक्स, उनको प्रोटेक्शन भी मिलना चाहिए, क्योंकि ये विन्डिक्टिव पॉलिटिक्स खेलते हैं। पता नहीं चलेगा कि कुछ दिनों में उनके साथ क्या हो सकता है, इनके राज में, तो उनको प्रोटेक्शन मिलना चाहिए।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x