आसमान में कीमत की जंग : अब 1500 रुपए से कम में उठा सकते हैं हवाई सफर का आनंद

आसमान में कीमत की जंग : अब 1500 रुपए से कम में उठा सकते हैं हवाई सफर का आनंद
0 0
Read Time:3 Minute, 40 Second

क्या आपने कभी मुंबई से अहमदाबाद के लिए महज 1,400 रुपये या मुंबई और बेंगलुरु के बीच करीब 2,000 रुपये या उससे भी कम में उड़ान भरने के बारे में सोचा है? यह अब संभव हो गया है क्योंकि विमानन क्षेत्र में गलाकाट प्रतिस्पर्धा ने उड़ान भरने वालों को आकर्षित करने के लिए एयरलाइनों के बीच मूल्य युद्ध को जन्म दिया है।
हवाई किराए पर एक नजदीकी नजर से पता चला है कि मुंबई से अहमदाबाद के टिकट की कीमत गो फस्र्ट पर 1,399 रुपये और नई प्रवेशी अकासा एयर पर 9 सितंबर को यात्रा के लिए 1,497 रुपये है। सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन इंडिगो उसी मार्ग पर टिकट की 1,609 रुपये में पेशकश कर रही है।
ऐसा ही हाल मुंबई-बेंगलुरु रूट पर भी है, जिसमें 2,000 रुपये से 2,200 रुपये तक के टिकट उपलब्ध हैं। अकासा एयर जहां 9 सितंबर को यात्रा के लिए 1,997 रुपये में टिकट दे रही है, वहीं इंडिगो पर 2,208 रुपये में टिकट उपलब्ध है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा 31 अगस्त से हवाई किराए की सीमा को हटाने के बाद भारतीय एयरलाइनों के बीच मूल्य युद्ध की आशंका थी।
उद्योग के विशेषज्ञों ने कहा कि एयरलाइनों के बीच उच्च प्रतिस्पर्धा से उड़ान भरने वालों के लिए लाभ हो सकता है और कई एयरलाइंस मांग के अनुसार छूट की पेशकश कर सकती हैं। दिलचस्प बात यह है कि कीमतों में ज्यादातर उन मार्गों पर गिरावट आई है, जिन पर हाल ही में लॉन्च हुई अकासा एयर ने अपना परिचालन शुरू किया है।
एक विशेषज्ञ ने कहा कि उड्डयन मंत्रालय के इस कदम से एयरलाइंस को हवाई किराए तय करने में लचीलापन मिला है क्योंकि वे अब अपनी नीतियों के अनुसार शुल्क ले सकते हैं। अकासा एयर के प्रवेश ने विमानन क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ा दी है। उड़ान भरने वालों को आकर्षित करने के लिए, कुछ एयरलाइनों ने पहले ही कम दरों पर टिकट देना शुरू कर दिया है।
इससे पहले, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने कहा था कि अनुसूचित घरेलू परिचालन की वर्तमान स्थिति की समीक्षा के बाद, अर्थात हवाई यात्रा के लिए यात्री की मांग, हवाई किराए के संबंध में समय-समय पर अधिसूचित किराया बैंड को प्रभावी रूप से हटाने का 31 अगस्त से निर्णय लिया गया है।
मंत्रालय ने कोविड -19 के प्रसार को रोकने के लिए शुरूआती दो महीने के राष्ट्रव्यापी तालाबंदी के बाद मई, 2020 में सेवाओं को फिर से शुरू करने के बाद हवाई किराए पर निचली और ऊपरी सीमा लगा दी थी। इसके बाद, देश में हवाई यातायात में सुधार के अनुसार चरणबद्ध तरीके से सीमाओं में ढील दी गई।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x