भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन आईएनसीओवीएसीसी की कीमत तय, एक डोज के लिए चुकाने होंगे इतने रुपए

भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन आईएनसीओवीएसीसी की कीमत तय, एक डोज के लिए चुकाने होंगे इतने रुपए
0 0
Read Time:5 Minute, 27 Second

वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक का कोविड-19 के लिए इंट्रानेजल वैक्सीन जल्द ही बूस्टर डोज के रूप में देश में पेश किया जाएगा। हैदराबाद स्थित कंपनी ने कहा कि इन्कोवैक (आईएनसीओवीएसीसी) (बीबीवी 154) नामक वैक्सीन अब कोविन पर उपलब्ध है, और निजी अस्पतालों के लिए इसकी कीमत 800 रुपए है।
इसके अलावा पांच फीसदी जीएसटी भी देनी होगी। रिपोर्ट के अनुसार निजी अस्पतालों को एक डोज के लिए 150 रुपये का एडमिनिस्ट्रेटिव चार्ज लगाने की भी मंजूरी है। इस प्रकार इस वैक्सीन की एक खुराक की कीमत फिलहाल लगभग 1000 रुपए पड़ेगी। वहीं सरकारी अस्पतालों में इस वैक्सीन की कीमत 325 रुपये होगी।
पिछले महीने भारत बायोटेक को केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) से इन्कोवैक की बूस्टर डोज के उपयोग के लिए मंजूरी मिली थी। यह एसएआरएस-सीओवी-2 स्पाइक प्रोटीन के साथ एक पुन: संयोजक प्रतिकृति कमी वाले एडेनोवायरस वेक्टरेड वैक्सीन है। कंपनी ने कहा कि इस वैक्सीन कैंडिडेट का सफल परिणामों के साथ पहले, दूसरे और तीसरे फेज के क्लिनिकल ट्रायल में मूल्यांकन किया गया था। इन्कोवैक को विशेष रूप से नाक की बूंदों के माध्यम से इंट्रानेजल डिलीवरी की अनुमति देने के लिए तैयार किया गया है। नाक वितरण प्रणाली को निम्न और मध्यम आय वाले देशों में लागत प्रभावी बनाने के लिए डिजाइन और विकसित किया गया है।
भारत बायोटेक के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. कृष्णा एल्ला ने कहा, हमने इस महामारी के दौरान अपने लिए निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त किया है। हमने दो अलग-अलग प्लेटफार्मों से दो अलग-अलग डिलीवरी सिस्टम के साथ कोवैक्सीन और इन्कोवैक को विकसित किया है। वेक्टर इंट्रानेजल डिलीवरी प्लेटफॉर्म हमें सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थितियों और महामारी के दौरान तेजी से उत्पाद विकास, स्केल-अप, आसान और दर्द रहित टीकाकरण की क्षमता देता है।
उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय, सीडीएससीओ, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार, प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड और वाशिंगटन विश्वविद्यालय, सेंट लुइस को उनके समर्थन और मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद दिया। बिना सुई के टीकाकरण के रूप में, भारत बायोटेक का इन्कोवैक भारत की पहली ऐसी बूस्टर डोज होगी। तीसरी डोज या एहतियाती डोज की बात आने पर भारत के पास अब अधिक विकल्प होंगे।
वैक्सीन बनाने वाली कंपनी ने कहा कि इन्कोवैक बड़े पैमाने पर टीकाकरण को चिंता के उभरते वेरिएंट से बचाने में सक्षम बनाता है। प्राथमिक खुराक अनुसूची के रूप में इन्कोवैक का मूल्यांकन करने के लिए नैदानिक परीक्षण किए गए थे, और उन विषयों के लिए बूस्टर खुराक के रूप में, जिन्होंने पहले भारत में दो सामान्य रूप से प्रशासित कोविड टीकों की दो खुराक प्राप्त की थी।
इन्कोवैक को वाशिंगटन विश्वविद्यालय, सेंट लुइस के साथ साझेदारी में विकसित किया गया, जिसने पुन: संयोजक एडेनोवायरल वेक्टर निर्माण को डिजाइन और विकसित किया था और प्रभावकारिता के लिए प्रीक्लिनिकल स्टडी में मूल्यांकन किया था।
भारत बायोटेक द्वारा प्रीक्लिनिकल सेफ्टी इवैल्यूएशन, बड़े पैमाने पर मैन्युफैक्च रिंग स्केल-अप, फॉमूर्लेशन और डिलीवरी डिवाइस डेवलपमेंट से संबंधित प्रोडक्ट डेवलवमेंट, जिसमें ह्यूमन क्लिनिकल ट्रायल भी शामिल हैं। प्रोडक्ट डेवलपमेंट और क्लिनिकल ट्रायल को आंशिक रूप से भारत सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग, कोविड सुरक्षा कार्यक्रम के माध्यम से वित्त पोषित किया गया।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
WhatsApp Image 2022-11-11 at 11.45.24 AM

admin

Related Posts

Read also x