बाॅम्बे हाईकोर्ट ने नाबालिग का गर्भपात हेतु बनाया मेडिकल बोर्ड

0 0
Read Time:2 Minute, 50 Second

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मुंबई स्थित जेजे अस्पताल को एक मेडिकल बोर्ड बनाने और इस बात का आकलन करने का निर्देश दिया है कि यौन शोषण की वजह से 24 सप्ताह की गर्भवती हुई नाबालिग पीड़िता का बिना किसी स्वास्थ्य जोखिम के गर्भपात कराया जा सकता है या नहीं। न्यायमूर्ति एसजे काठवाला ने शुक्रवार को इसे लेकर निर्देश दिए। पीड़िता ने अदालत से कहा कि वह मानसिक खिन्नता में है और वह गर्भपात कराना चाहती है ताकि अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे सके। अदालत ने नाबालिग की मां की तरफ से दायर याचिका पर सुनवाई की। मां ने उच्च न्यायालय को बताया कि पुलिस पहले ही आरोपी के खिलाफ यौन शोषण का मामला दर्ज कर चुकी है।

याचिका के अनुसार वर्तमान में 17 साल की नाबालिग पिछले साल नवंबर में अपने माता-पिता के घर से भाग गई थी। वह जनवरी 2020 में अपने घर पहुंची और मई में पेट में दर्द होने के बाद उसे अहसास हुआ कि वह गर्भवती है। लड़की के अनुसार माता-पिता के घर से भागने के बाद उसे नवी मुंबई में पास एक फैक्ट्री में नौकरी मिल गई थी। आरोपी उसी फैक्ट्री में काम करता है। अदालत ने जब लड़की से पूछा कि नाबालिग होने के बावजूद उसे फैक्ट्री में नौकरी कैसे मिल गई तो उसने न्यायमूर्ति काठवाला को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बताया कि उससे किसी भी तरह के दस्तावेज नहीं मांगे गए थे। उसने अदालत को बताया कि गर्भवती होने के कारण वह मानसिक पीड़ा से गुजर रही है और इसीलिए वह गर्भपात कराना चाहती है। न्यायमूर्ति काठवाला ने लड़की को शनिवार को चिकित्सा मूल्यांकन के लिए बोर्ड के समक्ष जाने का निर्देश दिया। अदालत ने कहा, ‘बोर्ड अदालत के समक्ष अपनी रिपोर्ट पेश करेगा, जिससे यह निर्धारित किया जाएगा कि गर्भपात करना उचित होगा या नहीं। बोर्ड रिपोर्ट में यह भी उल्लेख करेगा कि क्या इससे वाई (पीड़िता) के जीवन पर किसी तरह का जोखिम है या नहीं।’

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x