इकाॅनामी वारियर्स

0 0
Read Time:5 Minute, 54 Second

विगत दिनों से जब से सरकार ने लाॅक डाउन में राज्यों के अनुरोध पर लाॅक डाउन में राहत देते हुए शराब की दुकानों को खुलवाने की छूट दी देशभर से शराब के शौकीन मानों शराब की दुकानों की ओर यूं भागे जैंसे कि समुद्र मंथन के बाद अमृत बंट रहा हो। पूरे देश से जो फोटो और वीडियो प्रिंट इलैक्ट्रानिक तथा सोशल मीडिया के माध्यम से प्रकाशित तथा प्रसारित हो रहे थे वे हैरतंगेज थे। कहीं एक के कंधे पर दो दो व्यक्ति शराब खरीदने को चढे हैं तो कही कई व्यक्ति शराब की पेटियां ही उठाकर ले जा रहे थे। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तो तीन तीन किलोमीटर लम्बीं लाइने शराब खरीदने के लिए लगी थी। वहीं उत्तराखण्ड की राजधानी देहरादून तथा दूसरे छोटे बड़े शहरों मे भी शराब की दुकानों के बाहर इसी तरह के नजारे आम थे। जिधर देखो शराब की दुकानों के बाहर लगी लम्बीं लम्बीं लाइनें। वहीं उत्तराखण्ड के हलद्वानी तथा नैनीताल से भी इसी तरह के अदभुत नजारे देखने को मिले बीते दिवस मौसम विभाग के ओलावृष्टि के पूर्वानुमान सही साबित हुए तथा कुमांऊ क्षेत्र के कई हिस्सों मे जमकर ओले बरसे लेकिन हैरत में डालने वाली खबल यह थी कि इस भीषण औलावृष्टि में जिसमें आसमान से गरज चमक के साथ बिजली भी चमक रही थी कई लोग छाता पकड़े शराब खरीदने के लिए लाइन मे जमे रहे थे तथा इस अति प्रतिकूल मौसम में भी शराब खरीदने के लिए लगी लाइन से जरा भी टस से मस नही हुए अदभुत और हैरत में डालने वाला नजारा था और ओले भी यूं बरस रहे थे जैंसे इन शराब प्रेमी इकाॅनामी वारियर्स पर प्रकृति इनका सम्मान प्रदर्शित करते हुए ओलों की बरसात कर रही है, ठीक उसी तरह जैसें कुछ दिन पहले कोरोना वारियर्स पर लोग सम्मान स्वरूप पुष्प वर्षा कर रहे थे।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शराब प्रेमियों ने अलग ही नजारे पेश किए दिल्ली में कई जगहों पर कई किलोमीटर तक लम्बीं लाइनों में ये शराब के चाहने वाले खड़े नजर आ रहे थे लम्बीं लम्बीं लाइने और वह भी धूप में खड़े होकर, कहीं कोई शिकायत ना गुस्सा बस जैंसे तैंसे एक अदद शराब की बोतल मिल जाए बस. कई जगह पर जब व्यवस्था बिगड़ी तो पुलिसकर्मियों ने भी जमकर लाठियों की बरसात की किंतु शराब खरीदने की व्याकुलता के आगे सब बेअसर साबित हो रहा था। वहीं दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शराब की बिक्री पर 70 % कोरोना टैक्स लगाया है। दिल्ली सरकार को उम्मीद थी कि सत्तर प्रतिशत का भारी भरकम टैक्स लगाने के बाद शराब खरीदने के लिए उमड़ी यह लाखों लोगों की भीड़ थोड़ा छंटेगी लेकिन हुआ ठीक इसके उलट लोग दूसरे दिन भी उससे दोगुने जोश के साथ आधी रात से ही शराब की दुकानों के बाहर लाइन लगा कर खड़े मिले इस संदर्भ में जब शराब खरीद रहे लोगों से पूछा गया कि सरकार ने शराब की कीमत लगभग दोगुने कर दी है फिर भी आप शराब खरीदने के लिए लाइन पर लगे हैं तो कई शराब के खरीददारों ने कहा कि उन्हें इससे कोई फर्क नही पड़ता कि शराब कितनी मंहगी हुई।

शराब खरीदने के लिए लाइन पर लगे कुछ लोगों का कहना था कि दो गुना क्या भले कई गुना महंगी हो जाए शराब पीनी है तो पीनी है। दिल्ली सरकार का अनुसरण करते हुए कई राज्य सरकारों ने शराब पर कोरोना कर लगाया है जिससे कि सरकारों को अधिक राजस्व प्राप्त हो सके दूसरी ओर लाॅक डाउन में राहत के दौरान शराब की बिक्री में छूट दिलाने की मांग कई राज्यों की ओर से इसीलिए लगातार की जा रही थी कि उनका राजस्व बढ सके क्योंकि एक महीने के देशव्यापी लाॅक डाउन ने राज्यों की राजस्व प्राप्तियों के सभी स्रोत बंद कर दिए थे तथा लाॅक डाउन के दौरान सरकारों ने कई मदों में अधिक खर्च भी किए जिसके चलते उनके खजाने पर बुरा असर पड़ा तथा अधिकांश राज्य सरकारों ने खनन तथा शराब की बिक्री को प्राथमिकता के आधार पर खुलवाया और लाॅक डाउन से छूट के बाद खुल पहले दो ही दिनों में शराब की करोड़ों करोड़ के देशव्यापी बिक्री ने एक बार फिर साबित कर दिया कि कमाई के मामले में खनन और शराब क्या महत्व रखते हैं।

।।विभू ग्रोवर।।

About Post Author

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Posts

Read also x